Maharashtra Sheli Palan Yojana 2020-21 शेळी पालन कर्ज योजना सब्सिडी

Maharashtra Sheli Palan Yojana 2020-21 शेळी पालन कर्ज योजना सब्सिडी:- महाराष्ट्र सरकार किसानों के हितों के लिए कई प्रकार की योजनाएं आरंभ कर चुकी है. मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की सरकार ने किसानों के लिए के प्रकार की योजनाएं जो कि काफी लोकप्रिय हुई है को भी शुरू किया है. ऐसी ही एक अन्य योजना शेळीपालन कर्ज योजना 2019 महाराष्ट्र के बारे में विस्तार में आपको जानकारी देने आए हैं. 

महाराष्ट्र में बकरी पालन योजना को ही शेळीपालन के नाम से जाना जाता है. महाराष्ट्र में कई ऐसे बड़े किसान हैं जो बकरियों का काफी बड़े स्तर पर उत्पादन करके काफी अच्छा मुनाफा कमा रही है. आज इस आर्टिकल को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य ही हमारे किसान भाइयों को इस योजना के बारे में विस्तार में जानकारी देना है. साथ ही किसान भाई यह बात भी जरूर ध्यान में रखे की खेती के साथ साथ ऐसे छोटे व्यवसाय से भी काफी आमदनी हो सकती है.

Sheli Palan Yojana

प्यारे दोस्तों हमारे इस आर्टिकल को विस्तारपूर्वक को ध्यानपूर्वक से पढ़िए| हम अपने इस बकरी पालन लोन sbi की विस्तार पूर्वक जानकारी देंगे|  हम आपको बताएंगे कि आप किस प्रकार घर बैठे ऑनलाइन बकरी पालन ऑनलाइन फार्म  भरकर योजना का लाभ उठा सकते हैं|

Sheli Palan Yojana
Sheli Palan Yojana

बकरी पालन लोन 2020 व्यक्ति अपना व्यवसाय शुरू कर सकता है |और उसे व्यवसाय का अच्छा सहारा मिल सकता है| Sheli Palan Yojana 2020 शुरू करने के लिए जो भी व्यक्ति बैंक से लोन प्राप्त करना चाहता है| उसे बैंक के दिए गए सभी नियमों का पालन करें तभी आसानी से बकरी पालन ऋण योजना 2019 के तहत लोन मिल सकता है|

आप इस योजना के तहत अपनी बकरियो और बकरे का बीमा करवा सकते है। आप इस योजना के तहत 4 महीने की उम्र के बाद हर बकरी और बकरे का बीमा करवा सकते है । और फिर अगर आपको बकरी और बकरा किसी दुर्घटनावश मर जाता है या फिर बीमारी से  मर जाती है तो आप दावा कर सकते है ।

शेळी पालन अनुदान Subsidy 2020

आज हम आपको इस आर्टिक्ल के जरिये महाराष्ट्र की एक नई योजना के बारे मे बताने जा रहे है। इस नई योजना का नाम है शेळी पालन लोन योजना 2020। हम आपको इस आर्टिक्ल के जरिये बताएँगे की कैसे आप इस Sheli Palan Yojana का लाभ ले सकते है। हम आपको इस योजना के बारे मे हर वो जानकारी देंगे जो आपके लिए बहुत जरूरी है। जिसके बिना आप इस योजना का लाभ भी नहीं ले सकते।

इस आर्टिक्ल मे हम आपको इस योजना की पात्रता, और कैसे आप इस योजना का लाभ ले पाएंगे , यह सब बताएँगे।  तो अधिक जानने के लिए पूरी पोस्ट को ध्यान से पढे।सदर योजने मधुन पशुसंवर्धन विभागाच्या मालकीच्या इमारती पशुवैद्यकिय संस्थाच्या आवश्यक किरकोळ दुरुस्त्या करणे इत्यादी कामे केली जातात. सदर कामे रु १,००,०००/- च्या मर्यादेत बांधकाम दुरुस्ती व रु ७५ ,०००/-च्या मर्यादेत विद्युत कामांची दुरुस्ती, सार्वजनिक बांधकाम विभागामार्फत केली जातात. सदरचा निधी सार्वजनिक बांधकाम विभागा द्वारे वितरीत करण्यात येतो.

Maharashtra Sheli Palan Yojana ऑनलाइन आवेदन

बकरी पालन योजना मध्य प्रदेश ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

बकरी पालन योजना राजस्थान ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

बकरी पालन लोन बिहार  ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

बकरी पालन योजना राजस्थान ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

बकरी पालन योजना महाराष्ट्र ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

बकरी पालन योजना छत्तीसगढ़  ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

बकरी पालन योजना हरियाणा  ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

बकरी पालन योजना झारखंड  ऑनलाइन आवेदन करने के लिए इस वेबसाइट पर क्लिक करिए|

किसान को बकरी पालन लोन कैसे मिलेगा

  • सबसे पहले किसान को किसी भी राष्ट्रीय बैंक में एक करंट एकाउंट होना चाहिए |
  • यह एकाउंट करीब एक साल पुराना तथा एकाउंट बकरी पालन के किसी नाम से  होना चाहिए |
  • उस एकाउंट में बकरी के खरीद बिक्री का कम से कम एक साल का लेनदेन होना चाहिए |
  • अगर एक साल का रिटर्न फाइल है तो अच्छा है |
  • इस के बाद आप बैंक में जाएँ तो बैंक अधिकारी आप को आपके बैंक के लेनदेन के आधार पर आप को उतना पैसा आवंटित करेगा |
  • नाबार्ड कहता है की न्यू कमर्स को लोंन देगा लेकिन राष्ट्रीय बैंक न्यू कामर्स को नहीं देता है |
  • इस लिए राष्ट्रीय बैंक करता है की बैंक का पैसा डूब नही जाये |
  • यानि नाबार्ड का न्यू कामर्स का मतलब ही यही होता है की पहले आप अपने पैसे से बकरी पालन करे उसके बाद बैंक में जाकर लोंन की अप्लाई करें |

शेळी पालन कर्ज योजना के लिए नियम और शर्ते क्या हैं ?

इस योजन के लिए सरकार ने कुछ नियम और शर्ते रखी है , जिसे पालन करना सभी लाभार्थियों को जरुरी है अन्यथा आवेदन रद्द कर दिया जायेगा | आवेदन के लिए नियम और शर्ते इस प्रकार है |

लाभार्थी के पास एक माडल प्रोजेक्ट रिपोर्ट होना चाहिए | जिसमें बकरी की खरीदी लागत आवास लागत तथा बकरी को बेचने पर प्राप्त लाभांश को दिखाना होगा |

भूमि : – 100 बकरी तथा 5 बकरा के लिए वांछित भूमि 9,000 वर्गमीटर होना चाहिए | आवेदन करते समय लाभ्र्थी को 9,000 वर्गमीटर का लगान रसीद / एल.पी.सी./ लीज का एकरार नामा / नजरी नक्सा को जरुर लगना होगा |

लाभुकों को आधारभूत संरचना के निर्माण (बकरी / बकरा शेड के लिए 3,000 वर्गमीटर एवं खुला जगह लगभग 6,000 वर्गमीटर कुल 9,000 वर्गमीटर) एवं हरा चारा उगाने हेतु आवश्यकतानुसार अनिवार्य रूप से भूमि की व्यवस्था स्वयं करना होगा |

राशि :- लाभार्थी को अपने तरफ से 2 लाख रुपया लगाना होगा | अगर किसान ऋण लेना चाहता है तो उसे ऋण प्राप्ति हेतु 1 लाख रु. का चेक / पासबुक/ एफ.डी./ या किसी अन्य तरफ का साक्ष्य होना चाहिए |

प्रशिक्षण :- लाभार्थी को बकरी पालन के लिए पर्शिक्षण प्राप्त होना जरुरी है | इसके लिए लाभार्थी को आवेदन के समय बकरी पालन में प्रशिक्षण प्राप्त प्रमाण्पत्र संलगन करना जरुरी है |

जाती प्रमाणपत्र :- अगर आल्भार्थी अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के है तो उसे आवेदन के समय जाति प्रमाणपत्र संलगन करना जरुरी है |

अन्य दस्तावेज :- लाभार्थी को आवेदन के समय फोटो/आधार/ वोटर आई.डी. / पैन कार्ड / आवास प्रमाण लगाना होगा

ऋण पुर्नभुगतान एवं ऋण वसूली :

  • योजनान्तर्गत देय ऋण की पुर्नभुगतान अवधि 9 वर्ष है जिसमें अनुग्रह अवधि के 2 वर्ष भी सम्मिलित है। प्रार्थी को देय ऋण एवं ब्याज मुक्त राशि की एक साथ वसूली करनी आवश्यक है|
  • अर्द्धवार्षिक किश्तों के रुप में ब्याज मुक्त राशि वर्ष में दो बार आनुपातिक आधार पर नाबार्ड को वापस करनी होगी।
  • सुविधा के लिये आप योजनान्तर्गत मासिक वसूली निर्धारित करें तथा जनवरी से जून तक की गई वसूली माह जुलाई में तथा जुलाई से दिसम्बर तक की गई वसूली जनवरी में नाबार्ड को वापस भिजवाने हेतु राज्य बैंक को भिजवायें।
  • बैंक को समुचित ऋण ़ऋण एवं ब्याज मुक्त राशि की वसूली हेतु सुनिश्चित व्यवस्था व प्रयास करने चाहिये।
    बैंक को वार्षिक आधार पर योजनान्तर्गत वित्त पोषित इकाईयों का विवरण एनेक्सर- III में आवश्यक रुप से भिजवाना होगा।

Leave a Comment